Santa Banta Jokes in Hindi | 150+ संता बंता जोक्स हिंदी में

Santa Banta Jokes in Hindi

पत्नी को एक थप्पड मारने की सजा १००० रुपये जज साहब ने सुनाई..
तब संता ने जज को पुछा :-
“दुसरा एक थप्पड मार दु..??
जज गुस्से से :- क्यो..??
संता :- क्योंकि छुट्टा नहीं है मेरे पास २००० रुपये का नोट है।

संता के घर बेटी पैदा हुई.
उसके दोस्त बंता ने कहा- “भाई, बेटी का बाप होना बड़ी मुश्किल जिम्मेदारी है… जब ये बड़ी होगी तो मोहल्ले के लड़के इसे छेड़ेंगे और तुझे बहुत तकलीफ होगी.”
संता – “मेरी बेटी को नहीं छेड़ेंगे…”
बंता – “क्यों ?”
संता – “क्योंकि मैंने अपनी बेटी का नाम ‘दीदी’ रखा है…”

एक नीग्रो बस में अपने बच्चे के साथ जा रहा था….
कंडक्टर ने उसका बच्चा देखकर कहा-
“इतना काला बच्चा मैंने आज तक नहीं देखा”……
नीग्रो को गुस्सा आया,
लेकिन वो कुछ नहीं बोला और सीट पर आकर मुह फुलाकर बैठ गया।
संता ने उससे पूछा: “क्या हुआ भाई साहब”?
नीग्रो ने संता से कहा: अरे यार,
उस कंडक्टर ने बेइज्जती कर दी। . . . .
संता : अरे मार साले को जाकर . . .
ला ये चिम्पांजी का बच्चा मुझे पकड़ा दे…
साला काटेगा तो नहीं……..

टीचर: 1 से 10 तक गिनती सुनाओ।
संता: 1, 2, 3, 4, 5, 7, 8, 9, 10..
टीचर: 6 कहां है ?
संता: जी वो तो मर गया।
टीचर: मर गया? कैसे मर गया???
संता: जी मैडम, आज सुबह टीवी पर न्यूज में बता रहे थे कि स्वाईन फ्रलू में 6 की मौत हो गई !

 

संता: बुरा ना मानो होली है कह कर मेरे पड़ोसी ने मुझ पर रंग फेका | कुछ दिन बाद मैंने उस पर बम फ़ेंक दिया था |
बंता: वो क्यों ?
संता: उस दिन दीपावली थी मैंने बुरा ना मानो दीवाली है कह दिया |

अध्यापक: बताओ बच्चो हमारी पृथ्वी किसका चक्कर लगाती है?
संता: – “सूर्य का”
अध्यापक:
बहूत अच्छा बेटे,
और हमारी पृथ्वी का चक्कर कौन लगाता है?
सारे विधार्थी एक साथ: नरेंद्र मोदी!!

 

संता स्कूल गया, संता ने टीचर से पूछा –
सेल का मतलब क्या होता हैं –
इकॉनॉमिक के टिचर ने बताया –
सेल का मतलब बिक्री होता हैं।
फिजिक्स केे टीचर ने बताया –
सेल का मतलब बैटरी होता हैं।
अंग्रेजी के टीचर ने बताया –
सेल का मतलब मोबाइल होता हैं।
हिस्ट्री के टीचर ने बताया –
सेल का मतलब जेल होता हैं।
संता साला उस दिन के बाद कभी स्कूल नहीं गया,
जिस स्कूल के टीचर एक सवाल का एक जबाब नहीं देते, उस स्कूल में पढ़ने का क्या फ़ायदा।

 

बंता ने संता से पूछा- अगर तुम्हारे सिर पर बम रख दिया जाये तो पहले क्या फटेगा ?
तुम्हारा सिर या बम |
संता- बहुत सोचने के बाद…बम |
बंता- नहीं…गलत |
संता– तो क्या फटेगा ?
बंता- सबसे पहले तुम्हारी फटेगी |

 

संता, डॉक्टर से:
जब मैं सोता हूँ तो सपने में बन्दर फुटबॉल खेलते हैं ।
डॉक्टर:
कोई दिक्कत नहीं, ये गोली रात को सोने से पहले खा लेना ।
संता:
कल से खाऊंगा, आज तो फाइनल हैं.

 

गणित का टीचर
मास्टर जी एक होटल में खाली कटोरी में रोटी डुबो-डुबो कर खा रहे थे।
वेटर ने पूछा: मास्टर जी खाली कटोरी में कैसे खा रहे हैं?
मास्टर जी: भईया हम गणित के अध्यापक हैं। दाल हमने मान ली है।

 

एक बार संता कोल्ड ड्रिंक की दुकान पर गया
और दुकानदार से बोले- एक पेप्सी की बॉटल
खोलो भाई…
दुकानदार ने खोल दी।
पिर कहा, एक 7-अप की बॉटल खोलना।
दुकानदार ने खोल दी।
फिर कहा, एक स्प्राइट की बॉटल भी खोलना।
दुकानदार ने खोल दी।
फिर कहा, एक लिम्का भी खोल दो।
दुकानदार ने वह भी खोल दी।
फिर कहा एक माउंटेन ड्यू भी खोल दो यार।
दुकानदार को गुस्सा आया और बोला…
तू कौन सी पीएगा मेरे बाप…?
संता- यार पीनी तो कोई नहीं है,
मुझे तो ये बॉटल खुलने का आवाज बहुत पसंद है
ठस…ठस..ठस…

 

संता लंगड़ाता हुआ जा रहा था और उसके कपड़े
फटे हुए थे…
बंता ने पूछा: क्या हुआ भाई? यह हालत कैसे
हुई तुम्हारी?
संता: क्या बताऊं यार, बीवी को मुझे पिटवाने
की नई तरकीब सूझी थी!
बंता: कैसी तरकीब?
संता: बीवी ने मुझे झाड़ू खरीदने भेजा था।
वापस आ रहा था, तो बीजेपी कार्यकर्ताओं ने
मुझे आप का कार्यकर्ता समझ लिया!

 

संता ने अपने मित्र बंता को फोन किया।
संता : यार मैं बड़ी मुश्किल में फंस गया हूं। मेरी कार के कार्बुरेटर में पानी भर गया है।
बंता : कार्बुरेटर में पानी ? बड़ी अजीब बात है।
संता : हां, हां कार्बुरेटर में पानी । तुम जल्दी से यहां आ जाओ ।
बंता : अरे बेवकूफ, तुम्हें पता भी है कार्बुरेटर किसे कहते हैं । फिर से चेक करो। बताओ कार कहां है ?
संता : स्वीमिंग पूल में ….

 

संता अपने खेतों पर गया हुआ था। वहां कुंए की जगत पर बैठे एक मेंढ़क से उसकी बहस हो गई।
मेंढ़क – तुम्हारे पास दिमाग नहीं है ।
संता – है ।
मेंढ़क – नहीं है ।
संता – है ।
मेंढ़क – नहीं है, नहीं है, नहीं है …..
और इतना कहकर मेंढ़क कुंए में कूदगया ।
संता – अरे नहीं है तो नहीं है परइसमें खुदकुशी करने वाली क्या बात थी ……

संता-एक बार मेरी प्रेमिका ने मुझे अपने घर पर बुलाया मैं घर पहुंचा घंटी बजाई..

बंता- फिर क्या हुआ?

संता- उसकी छोटी बहन ने दरवाजा खोला वो बहुत सुंदर थी।

बंता- फिर क्या हुआ?

संता-वो बोली आप बहुत स्मार्ट हो पर घर पर कोई नहीं है।

मैं मुस्कुराया और अपनी बाइक की तरफ जाने लगा। तभी उसके घर वाले बाहर आकर मेरी शराफत की तारीफ करने लगे और कहा हमें ये रिश्ता मंजूर है.

बंता-फिर?

संता- अब उन्हें ये कौन बताए की मैं तो बाइक लॉक करने जा रहा था।

आलसी संता और बंता कमरे में लेटे हुए थे।

तभी बंता, संता से बोला- यार, जरा बाहर जाकर तो देख, बारिश हो रही है क्या?

संता- हां, बारिश हो रही है।

बंता- बिना बाहर देखे तुझे कैसे पता?

संता-अभी-अभी कांता बाई भीगी हुई अंदर आई थीं। मतलब बारिश हो रही है।

फिर बंता बोला- अच्छा, जरा बत्ती तो बुझा दे यार। रोशनी में नींद नहीं आती।

संता- आंखें बंद कर ले, अपने आप अंधेरा हो जाएगा।

बंता फिर गुस्से से बोला-कम से कम दरवाजा तो बंद कर दे!
संता- अब दो काम मैंने कर दिए, एक-आध तू खुद भी कर ले।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.