Pyar me Dhokha Shayari | प्यार में धोखा शायरी स्टेटस

Bewafa Shayari Status | प्यार में धोखा बेवफा शायरी स्टेटस | Bewafa Shayari in Urdu | बेवफा स्टेटस इन हिंदी फॉर गर्लफ्रैंड | बेवफा शायरी इन हिंदी फॉर Girlfriend 2 Line..

Bewafa Shayari Status 2022

❝तलाशता है दिल एक कोना अपने ही लिए,
उसी दिल में जिसमे जगह नही है अब किसी के लिए।❜❜

 

❝किसी को गलत समझने से पहले एक बार,
उसके हालात समझने की कोशिश जरुर करों।❜❜

 

❝कुछ इस तरह से,साँसों का बंधन है तुमसे मेरा,
साँस लेते हो तुम वहाँ,तो जी लेते हैं हम यहाँ।❜❜

 

❝कभी तो आ कर तू झाँक मेरे दिल में भी,
बहुत कुछ दम तोड रहा है मुझमें तेरे बगैर।❜❜

 

❝यहां तो लोग अपनी गलती नहीं मानते,
फिर किसी को अपना कैसे मानेंगे।❜❜

 

❝हमे भी आते है अंदाज दिल तोडने के,
हर दिल मे खुदा बसता है ये सोच कर चूप हो जाते है।❜❜

 

❝तुम्हारी नफरत पर भी लुटा दी ज़िंदगी हमने,
सोचो अगर तुम मोहब्बत करते तो हम क्या करते।❜❜

 

❝पत्थरों को चाहने की गलती की है,
हमने ठोकर तो लगेगी ही।❜❜

 

❝जख्म कहां कहां से मिले है, छोड़ इन बातो को,
​जिंदगी तु तो ये बता, सफर कितना बाकी है।❜❜

 

❝महफ़िल में चल रही थी​ हमारे कत्ल की तैयारी,​
​हम पहुँचे तो बोलें​ ​बहुत लम्बी उम्र है तुम्हारी।❜❜

 

❝अपने वो नहीं जो​ ​तस्वीर में साथ दिखे​,
​अपने वो हैं जो​ ​तकलीफ में साथ दिखे।❜❜

 

❝शीशा कमज़ोर बहुत होता है,
​मगर सच दिखाने से घबराता नहीं है।❜❜

 

❝चुपचाप गुज़ार देगें तेरे बिना भी ये ज़िन्दगी,
लोगों को सिखा देगें, मोहब्बत ऐसे भी होती है।❜❜

 

❝इश्क़ है तो शिकायत न कीजिए,
और शिकवे हैं तो मोहब्बत न कीजिए।❜❜

 

❝हिसाब क्या दूँ मैं अपनी मोहब्बत का,
तुम अपनी हिचकियों को बस गिनते रहना।❜❜

 

❝कुछ इस तरह से मत तोडना ताल्लुक हमसे,
कि हम मुद्दतों तक ढूंढते रहें कसूर अपना।❜❜

 

❝एकांत में खोने वाले को कोई नहीं ढूँढता,
​भीड़ में खोने वाले को सब ढूँढने लगते हैं।❜❜

 

❝जब तक मन में खोट और दिल में पाप है​,
​तब तक सारे मंत्र और जाप बेकार है।❜❜

 

❝कोई लफ्ज़ नही फिरभी कलम उठाई है,
बस तुमको यही जताना था कि याद तुम्हारी आयी है।❜❜

 

❝कुछ यूँ भी सदियां सिमट जाती हैं उस पल में,
बैठे बैठे तेरी याद आ जाती है जिस पल में।❜❜

 

❝उसकी हँसी देख कर जीता था मैं ऐ दोस्तों,
उसने हँसना बन्द कर दिया और मैंने जीना।❜❜

 

❝ग़म तो जनाब फ़ुरसत का शौक़ है,​
​ख़ुशी में वक्त ही कहाँ मिलता है।❜❜

 

❝ज़्यादा कुछ नहीं बदलता उम्र बढ़ने के साथ​,
​बस बचपन की ज़िद समझोतो में बदल जाती है।❜❜

 

❝जेब में ज़रा सा सूराख क्या हुआ,​
​सिक्कों से ज्याद रिश्ते गिर पडे।❜❜

 

❝हजारों मिठाइया चखी है ज़माने में​,
​ख़ुशी के आंसू से मीठा कुछ भी नहीं है।❜❜

 

❝लोग कहते हैं की पागल​ ​का कोई भरोसा नहीं,
​जनाब, कोई ये नहीं समझता​ की भरोसे ने ही उसे पागल किया है।❜❜

 

❝कोशिश इतनी है, कोई रूठे ना हमसे,
नज़र अंदाज करने वालों से नज़र हम भी नहीं मिलाते।❜❜

 

❝वो अल्फ़ाज़ ही क्या, जो समझानें पड़े,
हमने मुहब्बत की है कोई वकालत नहीं।❜❜

 

❝तमाम लोगों को अपनी अपनी मंजिल मिल चुकी,
कमबख्त हमारा दिल है, कि अब भी सफर में है।❜❜

 

❝अपनी नियत पर जरा गौर करके बताना,
मोहब्बत कितनी थी और मतलब कितने थे।❜❜

 

❝खामोशी को चुना है अब बाकी के सफर के लिए,
अब अल्फाजो को जाया करना हमे अच्छा नहीं लगता।❜❜

 

❝फिक्र है सब को खुद को सही साबित करने की,​
​जैसे ये जिन्दगी, जिन्दगी नही, कोई इल्जाम है।❜❜

 

❝शिकायत नही करता मेरा दिल किसी से,
मोहब्बत्त भी थी तो बस दिल में ही रखी।❜❜

 

❝यादों का बंधन तोड़ना इतना आसान नहीं है दोस्त,
कुछ लोग दिलों में बस जाते हैं लहू की तरह।❜❜

 

❝दोस्त हमदर्द होने चाहिए,
सिरदर्द बनने के लिए तो पूरी दुनिया ही तैयार बैठी है।❜❜

 

❝जख्म देना छोड दे ऐ जिंदगी,​
​अब तो मरहम की डिब्बी भी खाली हो गई है।❜❜

 

❝तकलीफों की सुरंग से जब ज़िन्दगी गुज़रती है,
तब जाकर कहीं शख्सियत निखरती है।❜❜

 

❝तेरी आँखों में एक शरारत सी हैं,
​क्या लेना चाहते हो दिल य़ा जान।❜❜

 

❝जिन्दगी को ज़िन्दगी भर मनाते रहे हम,
​मौत आई और एक पल में मना कर ले गई।❜❜

 

❝हमें कोई ना पहचान पाया करीब से,​
​कुछ अंधे थे कुछ अंधेरों में थे।❜❜

 

❝कितने मजबूर हैं हम प्यार के हाथों,
न तुझे पाने की औकात, न तुझे खोने का हौसला।❜❜

 

❝तन्हाई की सरहदें और भीगी पलके,
हम लुट जाते है रोज तुम्हें याद करके।❜❜

 

❝हल्की हल्की सी सर्द हवा जरा जरा सा दर्द ए दिल,
अंदाज अच्छा है दिसंबर तेरे आने का।❜❜

 

❝क़दमों में भी थकान थी घर भी क़रीब था,
पर क्या करें कि अब के सफ़र ही अजीब था।❜❜

 

❝नवम्बर की तरह हम भी अलविदा कह देगे एक दिन,
फिर ढुढते फिरोगे दिसंबर की ठंडी रातो में।❜❜

 

❝टूटे हुए दिल भी धड़कते है उम्र भर,​
​चाहे किसी की याद में या फिर किसी फ़रियाद में।❜❜

 

❝नही रहता कोई शख़्स अधूरा किसी के भी बिना,
वक़्त गुज़र ही जाता है, कुछ खोकर भी कुछ पाकर भी।❜❜

 

❝कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं,
मौत इंसानों को आती है यादों को नहीं।❜❜

 

❝भरी बरसात में उड़ के दिखा ऐ माहिर परिंदे,
आसमान खुला हो तो तिनके भी सफर किया करते हैं !!❜❜

 

❝सोचा था घर बना कर बैठुंगा सुकून से,
पर घर की ज़रूरतों ने मुसाफ़िर बना डाला !!❜❜

 

❝रस्ते में जो मिलता है मिल लेते हैं,
अच्छे बुरे की अब पहचान नहीं करते।❜❜