Broken Heart Shayari in Hindi | ब्रोकन हार्ट शायरी हिंदी में

तो कैसे है दोस्तों उम्मीद है अच्छे होंगे! Broken Heart Shayari in Hindi के इस बेस्ट शायरी कलेक्शन में आपका स्वागत है दोस्तों, ऐसे लोगों के लिए शायरी लाएं हैं जिनका दिल मोहब्ब्बत के रास्ते पर जख्मी हो गया है अर्थात जिनको प्यार में धोखा मिला है या प्यार में दिल टूट गया है।

यहां आप “Broken Heart Hindi Sad Shayari” ब्रोकन हार्ट शायरी हिंदी में का विशाल संग्रह हिंदी में इमेजेस के साथ पाएंगे, जिसे आप अपने दोस्तों के साथ व्हाट्सएप, फेसबुक, इंस्टाग्राम और पिंटरेस्ट पर भी शेयर कर सकते हैं।

Broken Heart Shayari in Hindi

आज फिर मौसम नम हुआ मेरी आँखों की तरह,
शायद बादलों का भी दिल किसी ने तोड़ा होगा।

नाराज क्यों होते हो चले जायेंगे बहुत दूर,
जरा टूटे हुए दिल के टुकङे तो उठा लेने दो।

लुटा चुका हूँ बहुत कुछ, अपनी जिंदगी में यारो,
मेरे वो जज्बात तो ना लूटो, जो लिखकर बयाँ करता हूँ।

मुझे परहेज है ज़ख्मों की नुमाइश से,
मेरे हमदर्द रहने दे दिले-बीमार की बातें।

जख्म तो हम भी अपने दिल में तुमसे गहरे रखते हैं,
मगर हम जख्मों पे मुस्कुराहटों के पहरे रखते हैं।

जिस्म से मेरे तड़पता दिल कोई तो खींच लो,
मैं बगैर इसके भी जी लूँगा मुझे अब है यकीं।

अब कहाँ जरुरत है हाथों में पत्थर उठाने की​​
तोड़ने वाले तो दिल जुबां से ही तोड़ दिया करते है।

नहीं वादा कोई करना नहीं कसमें ही खानी है,
मुझे चुपचाप रहकर यूं सभी रस्में निभानी है।

दो शब्दों में सिमटी है मेरी मुहब्बत की दास्तान,
उसे टूट कर चाहा और चाह कर टूट गये।

हमारा ज़िक्र छोड़ो हम ऐसे लोग हैं कि जिन्हे,
नफरत कुछ नहीं करती मोहब्बत मार देती है.

तुम पूछो और मैं न बताऊँ ऐसे तो हालात नहीं,
एक जरा सा दिल टूटा है और तो कोई बात नहीं।

दिल जो टूटा तो कई हाथ दुआ को उठे,
ऐसे माहौल में अब किसको पराया समझें।

मुझको तो होश नहीं तुमको खबर हो शायद,
लोग कहते हैं कि तुमने मुझे बर्बाद कर दिया।

टूटा तिलिस्म-ए-अहद-ए-मोहब्बत कुछ इस तरह
फिर आरज़ू की शमा फ़ुरेज़ाँ न कर सके।

मेरे हाथों से मेरी तकदीर भी वो ले गया,
आज अपनी आखिरी तस्वीर भी वो ले गया।

ऐसा तल्ख़ जवाबे-वफ़ा पहली ही दफा मिला,
हम इस के बाद फिर कोई अरमां न कर सके।

बिछड़ के तुझसे न देखा गया किसी का मिलन,
उड़ा दिए हैं परिंदे भी हमने शजर पे बैठे हुए।

होंठों की हँसी को न समझ हकीक़त-ए-जिंदगी,
दिल में उतर के देख कितने टूटे हुए हैं हम।

हारा हुआ सा लगता है वजूद मेरा,
हर एक ने लूटा है दिल का वास्ता देकर।

कौन कहता है कि दिल सिर्फ लफ्जों से तोड़ा जाता है?
तेरी ख़ामोशी भी कभी कभी आँखें नम कर देती है।

देती है सुकून रूह को काँटों की चुभन भी,
खुशबू से कभी होती है सीने में जलन भी।

दिल मेरा तोड़ा ऐसे वीरान भी न रहने दिया,
खुद खुदा हो गया मुझे इन्सान भी न रहने दिया।

होश उड़ जाएंगें मेरे कातिल के,
कोई उसे बता दे कि मैं जिंदा हू अभी।

इश्क़ में मेरा इस कदर टूटना तो लाजमी था,
काँच का दिल था और मोहब्बत पत्थर से की थी।

एक तुम मिल जाते बस इतना काफ़ी था,
सारी दुनिया के तलबगार नहीं थे हम।

ख्वाहिशें थीं चाँद तारे तोड़ लाने की मगर,
देख लो बिखरा पड़ा है वो जमीं पर टूट कर।

किसी का कत्ल करने पर सजा-ए-मौत है लेकिन,
सजा क्या हो अगर दिल कोई किसी का तोड़ दे?

वफ़ा की हमने और तुमने जफा की,
तुम अच्छे हम बुरे कुदरत खुदा की।

एक ताल्लुक था सो आया हूँ खुदाया वरना,
कौन आता है तेरी महफ़िल में तमाशा बनने।

कुछ मोहब्बत का नशा था पहले हमको,
दिल जो टूटा तो नशे से मोहब्बत हो गई।

कोई एहसान करदे मुझपे इतना सा बता कर,
भुलाया कैसे जाता है दिल तोड़ने वाले को।

मैं तो आईना हूँ टूटना मेरी फितरत है,
इसलिए पत्थरों से मुझे कोई गिला नहीं।

तुम्हारा क्या बिगाड़ा था जो तुमने तोड़ डाला है,
ये टुकड़े मैं नहीं लूँगा मुझे तुम दिल बना कर दो।

अब न कोई हमें मोहब्बत का यकीन दिलाये,
हमें रूह में भी बसा कर निकाला है किसी ने।

बदल गए सब लोग आहिस्ता-आहिस्ता,
अब तो अपना भी हक़ बनता है।

फिर नहीं बसते वो दिल जो एक बार टूट जाते हैं,
कब्र कितनी ही संवारो कोई ज़िंदा नहीं होता।

जरा सा बात करने का तरीका सीख लो तुम भी,
उधर तुम बात करते हो इधर दिल टूट जाता है।

वो शख्स फिर से मुझे तोड़ गया आज,
जिसे कभी हम पूरी दुनिया कहा करते थे।

कोई इल्ज़ाम रह गया है तो वो भी दे दो,
पहले भी बुरे थे हम अब थोड़े और सही।

मेरे गुनाह साबित करने की ज़हमत ना उठा,
बस खबर कर दे क्या क्या कबूल करना है।

अंदर कोई झाँके तो टुकड़ों में मिलूंगा,
ये हँसता हुआ चेहरा तो दिखाने के लिए है।

आखिरी बार सलाम-ए-दिल-ए-मुज़्तर ले लो,
फिर न लौटेंगे शब-ए-हिज्र के रोने वाले।

तुझसे बहुत कहा था कि मुझे अपना न बना,
अब दिल मेरा तोड़ कर मेरा तमाशा न बना।

जब लिख ही दिया है तूने मेरा नाम रेत पर,
मिटने का फिर मेरे तू तमाशा भी देख ले।

Leave a Comment